Best 10+ Beginner Hindi Short Stories for Class 1

Class 1 to 10 Stories in Hindi

एक नई भाषा सीखना चुनौतीपूर्ण हो सकता है, लेकिन यह मजेदार और फायदेमंद भी हो सकता है। Beginner Hindi Short Stories for Class 1 यदि आप अपने बच्चे के हिंदी भाषा कौशल को विकसित करने में मदद करने के तरीके की तलाश कर रहे हैं, तो लघु कथाएँ एक बेहतरीन उपकरण हो सकती हैं। वे न केवल पढ़ने और समझने का अभ्यास करने का अवसर प्रदान करते हैं, बल्कि वे जीवन के महत्वपूर्ण सबक और मूल्य भी सिखा सकते हैं। यहां कुछ Beginner Hindi Short Stories for Class 1 दी गई हैं जो कक्षा 1 के छात्रों के लिए उपयुक्त हैं।

Beginner Hindi Short Stories for Class 1

कक्षा 1 के छात्रों के लिए शुरुआती आकर्षक लघु कथाएँ खोजें। ये हिंदी कहानियां युवा शिक्षार्थियों के लिए एकदम सही हैं, जो भाषा के विकास को बढ़ावा देती हैं और मूल्यवान जीवन पाठ पढ़ाती हैं। कल्पना और रचनात्मकता को बढ़ावा देते हुए पठन कौशल में वृद्धि करें। टीमवर्क, मित्रता आदि पर आकर्षक कहानियाँ खोजें। कक्षा के उपयोग या घर पर गुणवत्तापूर्ण समय के लिए आदर्श। आज ही हिंदी कहानी कहने की दुनिया की खोज शुरू करें!

Beginner Hindi Short Stories for Class 1

Simple Hindi Story for Class 1

कछुआ और खरगोश

एक बार की बात है, एक कछुआ और एक खरगोश के बीच इस बात पर बहस हो गई कि कौन तेज है। खरगोश अपनी गति के बारे में शेखी बघारता था, जबकि कछुआ दावा करता था कि धीमा और स्थिर दौड़ जीतता है।

विवाद को निपटाने के लिए, उन्होंने एक दौड़ लगाने का फैसला किया। खरगोश ने तेजी से उड़ान भरी और जल्द ही कछुए से काफी आगे निकल गया। अपने नेतृत्व के प्रति आश्वस्त महसूस करते हुए, खरगोश ने एक पेड़ के नीचे झपकी लेने का फैसला किया।

इस बीच कछुआ धीरे-धीरे लेकिन लगातार आगे बढ़ता रहा। कुछ समय बाद कछुआ खरगोश से आगे निकल गया और दौड़ जीत गया।

कहानी का नैतिक यह है कि धीमी और स्थिर दौड़ जीत जाती है। यह हमेशा इस बारे में नहीं है कि कौन सबसे तेज या सबसे मजबूत है, बल्कि यह है कि कौन अंत तक डटा रहता है।

चींटी और टिड्डा

एक बार की बात है, एक चींटी और एक टिड्डा रहते थे। चींटी बहुत मेहनती थी और सारा दिन सर्दी के मौसम के लिए खाना इकट्ठा करने में लगाती थी। दूसरी ओर, टिड्डे को दिन भर गाना और नाचना बहुत पसंद था।

एक दिन, टिड्डे ने चींटी को कड़ी मेहनत करते देखा और कहा, “तुम इतनी मेहनत क्यों करती हो? इसके बजाय आओ और मेरे साथ खेलो!”

चींटी ने जवाब दिया, “मैं तुम्हारी तरह पूरे दिन नहीं खेल सकती। मुझे सर्दियों के मौसम के लिए भोजन इकट्ठा करने की जरूरत है।”

टिड्डा हंसा और बोला, “सर्दी अभी दूर है। तुम्हारे पास भोजन इकट्ठा करने के लिए बहुत समय है।”

लेकिन चींटी ने कड़ी मेहनत करना जारी रखा और सर्दियों के मौसम के लिए भोजन जमा किया। जब जाड़ा आया तो चींटी के पास जीवित रहने के लिए पर्याप्त भोजन था, लेकिन टिड्डे के पास नहीं था। उसे अपनी गलती का एहसास हुआ और काश उसने चींटी की तरह मेहनत की होती।

कहानी का नैतिक यह है कि कड़ी मेहनत अंत में भुगतान करती है।

Short Stories in Hindi for Class 1 अभी पढ़ें

Simple Hindi Story for Class 1

चतुर खरगोश

एक बार की बात है, एक जंगल में एक खरगोश रहता था। एक दिन एक भयंकर शेर प्रकट हुआ और अन्य जानवरों पर हमला करने लगा। खरगोश जानता था कि उसे अपने दोस्तों को बचाने के लिए कुछ करना होगा।

तो, खरगोश शेर के पास गया और बोला, “महाराज, जंगल के जानवरों ने फैसला किया है कि वे आपको हर दिन कुछ भेंट देंगे। हर दिन, एक जानवर आपके पास आएगा, और आप उन्हें अपनी मर्जी से खा सकते हैं।”

शेर इस व्यवस्था से खुश हुआ और इसके लिए राजी हो गया। खरगोश फिर दूसरे जानवरों के पास गया और उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए कहा। हर दिन एक जानवर शेर के पास जाता और जल्द ही शेर मोटा और आलसी हो गया।

एक दिन श्रद्धांजलि देने की बारी खरगोश की थी। लेकिन खरगोश के पास एक योजना थी। वह एक प्रस्ताव लेकर शेर के पास गया। “महाराज, मैं एक अच्छा भोजन बनने के लिए बहुत छोटा हूँ। यदि आप कुछ दिन प्रतीक्षा करते हैं, तो मैं बड़ा और रसदार हो जाऊँगा।”

शेर प्रस्ताव पर सहमत हो गया और कुछ दिनों तक प्रतीक्षा की। इस बीच, खरगोश ने शेर की मांद के नीचे एक गड्ढा खोदा और उसे पत्तों से ढक दिया।

जब शेर खरगोश के बड़े होने की प्रतीक्षा कर रहा था, तो चतुर खरगोश दौड़ कर बिल में जा छिपा। शेर खरगोश के आने का इंतजार करता रहा, लेकिन वह नहीं आया।

शेर को आखिरकार एहसास हुआ कि उसे चतुर खरगोश ने धोखा दिया है और वह शर्म के मारे जंगल से निकल गया।

कहानी का नैतिक यह है कि बुद्धि शक्ति को हरा सकती है। चुनौतियों से पार पाने के लिए अपनी बुद्धि का उपयोग करना और चतुर होना महत्वपूर्ण है।

जादू दलिया पॉट

एक बार की बात है, एक गरीब लड़की अपनी माँ के साथ रहती थी। एक दिन, एक दयालु बूढ़ी औरत ने उसे एक जादुई दलिया बर्तन दिया और उसे काम करने के लिए कहा।

लड़की बर्तन घर ले आई और जादू के शब्द बोले, “कुक, छोटा बर्तन, कुक!” दलिया का बर्तन उबलने लगा और एक स्वादिष्ट दलिया बना जिससे पूरा घर भर गया।

लड़की और उसकी माँ ने दलिया का आनंद लिया और यह देखकर चकित रह गईं कि इससे कितना उत्पादन हो सकता है। लेकिन जब वे भरे हुए थे, तो उन्हें नहीं पता था कि बर्तन को पकने से कैसे रोका जाए।

बर्तन अधिक से अधिक दलिया का उत्पादन करता रहा, घर भरता रहा और सड़कों पर फैल गया। लड़की और उसकी मां चिंतित हो गईं और मदद मांगी।

एक दयालु बूढ़े व्यक्ति ने उनकी दलील सुनी और उनसे बर्तन को रोकने के लिए शब्द कहे, “रुको, छोटा बर्तन, रुको!” बर्तन ने खाना बनाना बंद कर दिया और लड़की और उसकी माँ को राहत मिली।

उस दिन के बाद से, लड़की और उसकी माँ ने जादू के बर्तन का बुद्धिमानी से उपयोग किया, जब भी उन्हें आवश्यकता हुई स्वादिष्ट भोजन का आनंद लिया।

कहानी का नैतिक यह है कि हमारे संसाधनों का बुद्धिमानी से उपयोग करना और लालची नहीं होना महत्वपूर्ण है।

हँसेल और ग्रेटल

एक बार की बात है, हंसल और ग्रेटेल नाम के एक भाई और बहन रहते थे। वे अपने पिता और सौतेली माँ के साथ जंगल में एक छोटे से घर में रहते थे।

एक दिन, सौतेली माँ ने बच्चों को गहरे जंगल में ले जाने और उन्हें वहाँ छोड़ने का फैसला किया, क्योंकि वह अब उन्हें नहीं चाहती थी। हेंसल ने योजना को अनसुना कर दिया और ब्रेडक्रंब का निशान छोड़ दिया ताकि वे घर वापस आ सकें।

हालाँकि, पक्षियों ने ब्रेडक्रंब खा लिया, और बच्चे जंगल में खो गए। वे मिठाई और मिठाइयों से बने एक घर पर ठोकर खाकर खाने लगे।

घर एक दुष्ट चुड़ैल का था जिसने बच्चों को पकड़ लिया और रात के खाने के लिए हंसल को एक पिंजरे में बंद कर दिया। ग्रेटेल ने चुड़ैल को बरगलाया और अपने भाई को बचाते हुए उसे ओवन में धकेल दिया।

बच्चे घर वापस आ गए और अपने पिता से मिल गए। उसके बाद से वे खुश रहे।

कहानी का नैतिक यह है कि दया और बहादुरी हमें चुनौतियों से पार पाने में मदद कर सकती है।

short story in Hindi with moral class 1

द लॉस्ट काइट

टॉमी को पतंग उड़ाना बहुत पसंद था। एक धूप वाले दिन, वह अपनी नई पतंग उड़ाने के लिए पार्क में गया। जैसे ही हवा तेज हुई और उसकी पतंग आसमान में ऊंची उड़ान भरने लगी, उसने डोरी को कस कर पकड़ लिया। टॉमी पार्क में इधर-उधर दौड़ता रहा, अपनी पतंग को और ऊँची उड़ान भरते देख हँसता रहा।

अचानक, हवा ने दिशा बदल दी और टॉमी ने अपनी पतंग पर नियंत्रण खो दिया। डोर उसके हाथ से छूट गई और पतंग दूर उड़ गई। टॉमी ने इधर-उधर देखा लेकिन यह नहीं देख सका कि वह कहाँ चला गया था।

वह उदास और निराश महसूस कर रहा था। उसे नहीं पता था कि उसकी पतंग के बिना क्या करना है। तभी उसकी नजर एक बूढ़े व्यक्ति पर पड़ी जो हाथ में पतंग लिए चल रहा था। टॉमी दौड़कर उसके पास गया और पूछा, “क्षमा करें, क्या आपने मेरी पतंग देखी है?”

बूढ़ा मुस्कुराया और बोला, “मैंने तुम्हारी पतंग नहीं देखी, लेकिन क्या तुम मेरी पतंग उड़ाना चाहोगे?”

टॉमी की आँखें उत्साह से चमक उठीं, और उसने उत्सुकता से बूढ़े व्यक्ति से पतंग ले ली। उसने डोरी को कस कर पकड़ रखा था, अपने चेहरे पर हवा के झोंकों को महसूस कर रहा था। वह अपनी खोई हुई पतंग के बारे में सब कुछ भूलकर, हँसते और मस्ती करते हुए, पार्क में इधर-उधर भागा।

जब घर जाने का समय आया, तो टॉमी ने बूढ़े आदमी को धन्यवाद दिया और उसे अपनी पतंग वापस दे दी। उसे एहसास हुआ कि भले ही उसने अपनी खुद की पतंग खो दी थी, फिर भी उसे दूसरी पतंग उड़ाने में मज़ा आ रहा था। उन्होंने अनुभव के लिए खुश और आभारी महसूस किया।

उस दिन से, टॉमी जानता था कि अगर वह कुछ खो देता है तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। वह हमेशा किसी और चीज में खुशी ढूंढ सकता था।

लिटिल रेड राइडिंग हुड

एक बार लिटिल रेड राइडिंग हूड नाम की एक छोटी लड़की थी। एक दिन, उसकी माँ ने उसे जंगल में रहने वाली अपनी दादी के पास उपहारों की एक टोकरी ले जाने के लिए कहा।

उसके रास्ते में, लिटिल रेड राइडिंग हूड एक भेड़िये से मिला जिसने उससे पूछा कि वह कहाँ जा रही थी। लिटिल रेड राइडिंग हूड ने मासूमियत से उसे अपने मिशन के बारे में बताया। फिर भेड़िये ने उसे बरगलाया और आगे दादी के घर भाग गया।

भेड़िये ने खुद को लिटिल रेड राइडिंग हूड की दादी के रूप में प्रच्छन्न किया और उसके आने का इंतजार किया। जब लिटिल रेड राइडिंग हूड घर पहुंचा, तो वह अपनी दादी के बजाय भेड़िये को देखकर हैरान रह गई। फिर भेड़िये ने उसे खाने की कोशिश की, लेकिन एक लकड़हारे ने मदद के लिए उसकी पुकार सुनी और उसे बचा लिया।

उस दिन से, लिटिल रेड राइडिंग हूड ने अजनबियों से सावधान रहना सीखा और हमेशा अपनी मां की सलाह सुनी।

कहानी का नैतिक यह है कि अजनबियों से सावधान रहना और हमेशा अपने माता-पिता की बात सुनना महत्वपूर्ण है।

जैक और शैतान का खज़ाना

एक बार की बात है, जैक नाम का एक गरीब लड़का था जो अपनी माँ के साथ रहता था। उनके पास पैसा नहीं था और वे अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए संघर्ष कर रहे थे।

एक दिन, जैक ने एक रहस्यमय अजनबी से कुछ जादू की फलियों के लिए अपनी गाय का व्यापार किया। उसकी माँ गुस्से में थी और उसने फलियाँ खिड़की से बाहर फेंक दीं। अगली सुबह, जब वे उठे तो उन्होंने पाया कि एक विशाल बीनस्टॉक रातोंरात बड़ा हो गया था।

जैक बीनस्टॉक पर चढ़ गया और बादलों में ऊँचे स्थान पर पहुँच गया। वहां उसकी मुलाकात एक राक्षस से हुई और उसने देखा कि एक मुर्गी सोने के अंडे देती है। उसने मुर्गी को चुराने और बीनस्टॉक से बचने का फैसला किया।

विशाल ने जैक का पीछा करते हुए बीनस्टॉक को गिरा दिया, लेकिन जैक ने उसे काट दिया, जिससे विशाल की मौत हो गई। जैक और उसकी माँ सोने के अंडे से अमीर बन गए और हमेशा के लिए खुशी से रहने लगे।

कहानी का नैतिक यह है कि लालच परेशानी का कारण बन सकता है, लेकिन बहादुरी और साधन संपन्नता सफलता की ओर ले जा सकती है।

माता-पिता या शिक्षक के रूप में, बच्चों को हिंदी लघु कथाओं से परिचित कराना उनके पढ़ने के कौशल को विकसित करने और उनकी शब्दावली बनाने में मदद करने का एक शानदार तरीका है। लघु कथाएँ युवा शिक्षार्थियों के लिए उत्तम हैं क्योंकि वे संक्षिप्त और समझने में आसान हैं। वे नैतिक पाठ पढ़ाते हुए कल्पना और रचनात्मकता को भी प्रोत्साहित करते हैं।

यहाँ Moral Stories for Childrens in Hindi दी गई हैं जिनका उपयोग शिक्षण और मनोरंजक उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है:

इन्हें अवश्य पढ़ें Short Stories in Hindi for Class 1

  • अंत और टिड्डा (The Ant and the Grasshopper): यह क्लासिक कथा बच्चों को कड़ी मेहनत और योजना के महत्व को सिखाती है। चींटी सर्दियों के लिए भोजन इकट्ठा करने के लिए कड़ी मेहनत करती है, जबकि टिड्डा वर्तमान का आनंद लेता है और भविष्य की उपेक्षा करता है।
  • साँप और चूहा (The Snake and the Mouse): यह कहानी बच्चों को टीम वर्क का महत्व सिखाती है और यह भी सिखाती है कि कैसे एकता सबसे महत्वपूर्ण बाधाओं को भी दूर कर सकती है।
  • लालची राजा (The Greedy King): यह कहानी बच्चों को लालच के परिणाम और कैसे यह दुख की ओर ले जा सकता है सिखाती है।
  • भेड़िया और बकरा (The Wolf and the Goat): यह कहानी बच्चों को अजनबियों से सतर्क रहने और किसी पर भी आसानी से भरोसा न करने की सीख देती है।
  • लोमड़ी और कौवा (The Fox and the Crow): यह कहानी बच्चों को विनम्र होना और चापलूसी के लिए नहीं गिरना सिखाती है।
  • चलती का नाम गाड़ी (The Name of the Vehicle is Car)): यह कहानी बच्चों को परिवहन के विभिन्न तरीकों और सड़क सुरक्षा के महत्व के बारे में सिखाती है।
top 10 moral stories in Hindi

Best Moral Lesson Beginner Hindi Short Stories for Class 1

The Clever Fox and the Foolish Crow (चालाक लोमड़ी और मूर्ख कौवा)

यह क्लासिक हिंदी कहानी आपके पास जो है उससे सावधान रहने के बारे में एक महत्वपूर्ण सबक सिखाती है। कहानी में, एक कौवा पनीर का एक टुकड़ा पाता है और उसे खाने के लिए एक पेड़ पर चढ़ जाता है। एक लोमड़ी कौवे को देखती है और पनीर चुराने की एक चतुर योजना बनाती है। लोमड़ी कौवे को चपटा करती है और उसे गाने के लिए मना लेती है, जिससे पनीर उसकी चोंच से निकलकर लोमड़ी के मुंह में गिर जाता है। कहानी का नैतिक यह है कि आपके पास जो कुछ है उससे सावधान रहें और दूसरों की चापलूसी पर भरोसा न करें।

प्यासा कौवा (The Thirsty Crow)

प्यासे कौवे की कहानी कक्षा 1 के लिए एक लोकप्रिय हिंदी लघुकथा है जो समस्या समाधान के बारे में एक महत्वपूर्ण पाठ पढ़ाती है। कहानी में, एक कौवा प्यासा है और पानी के एक घड़े के नीचे पानी की थोड़ी मात्रा के साथ आता है। कौआ पानी तक पहुँचने की कोशिश करता है लेकिन नहीं कर पाता क्योंकि उसकी चोंच बहुत छोटी होती है। कौआ तब एक चतुर समाधान के साथ आता है और कंकड़ को घड़े में गिरा देता है, जिससे पानी का स्तर बढ़ जाता है और कौवे को पीने की अनुमति मिलती है। कहानी का नैतिक रचनात्मक रूप से सोचना और समस्याओं का समाधान खोजना है।

लालची कुत्ता (The Greedy Dog)

लालची कुत्ता कक्षा 1 के लिए एक और लोकप्रिय हिंदी लघुकथा है जो लालच के बारे में एक महत्वपूर्ण सबक सिखाती है। कहानी में, एक कुत्ता एक हड्डी पाता है और उसे लेकर भाग जाता है, लेकिन घर के रास्ते में, वह एक तालाब में अपना प्रतिबिंब देखता है और सोचता है कि यह एक बड़ी हड्डी वाला दूसरा कुत्ता है। लालची कुत्ता दूसरे कुत्ते की हड्डी लेने की कोशिश करने के लिए अपनी हड्डी गिरा देता है, केवल यह महसूस करने के लिए कि यह सिर्फ उसका प्रतिबिंब था। कहानी का नैतिक यह है कि आपके पास जो है उससे संतुष्ट रहें और लालची न बनें।

चींटी और टिड्डा (The Ant and the Grasshopper)

चींटी और टिड्डा कक्षा 1 के लिए एक क्लासिक हिंदी लघु कहानी है जो भविष्य के लिए कड़ी मेहनत और योजना बनाने के महत्व को सिखाती है। कहानी में, चींटी पूरी गर्मियों में सर्दियों के लिए भोजन इकट्ठा करने के लिए कड़ी मेहनत करती है, जबकि टिड्डा अपना समय गाने और खेलने में बिताता है।

जब सर्दियां आती हैं, तो टिड्डे को भूखा और ठंडा छोड़ दिया जाता है, जबकि चींटी के पास भरपूर भोजन और आश्रय होता है। कहानी का नैतिक कड़ी मेहनत करना और भविष्य के लिए आगे की योजना बनाना है।

शेर और चूहा (The Lion and the Mouse)

द लायन एंड द माउस कक्षा 1 के लिए एक और लोकप्रिय हिंदी लघु कहानी है जो दयालुता और दूसरों की मदद करने के महत्व को सिखाती है। कहानी में, एक चूहा गलती से शेर की पीठ पर दौड़ते हुए उसे जगा देता है। शेर चूहे को खाने वाला है, लेकिन चूहा दया की भीख माँगता है और किसी दिन एहसान चुकाने का वादा करता है। बाद में, शेर एक शिकारी के जाल में फंस जाता है, और चूहा रस्सियों को कुतर कर उसके बचाव में आता है।

कहानी का नैतिक यह है कि दयालुता के छोटे से छोटे कार्य का भी बड़ा प्रभाव हो सकता है, और हमें दूसरों की ज़रूरत में मदद करने के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए।

Beginner Hindi Short Stories for Class 1 कक्षा में हिंदी लघु कथाओं का उपयोग सीखने को अधिक आकर्षक और संवादात्मक बना सकता है। शिक्षक इन कहानियों का उपयोग छात्रों को उनके उच्चारण और बोध कौशल में सुधार करने में मदद करने के लिए भी कर सकते हैं।

माता-पिता इन कहानियों का उपयोग अपने बच्चों के साथ घर पर पढ़ने के लिए भी कर सकते हैं। हिंदी लघु कथाओं को एक साथ पढ़ना माता-पिता के लिए नैतिक मूल्यों को स्थापित करने के साथ-साथ अपने बच्चों के साथ गुणवत्तापूर्ण समय बिताने का एक सुखद तरीका हो सकता है।

अंत में, beginner Hindi short stories for Class 1 का उपयोग करना, उन्हें भाषा सीखने और महत्वपूर्ण जीवन कौशल विकसित करने में मदद करने का एक शानदार तरीका है। ये कहानियाँ न केवल मनोरंजक हैं बल्कि इनमें एक मूल्यवान शिक्षा भी है जिसे बच्चे अपने दैनिक जीवन में लागू कर सकते हैं।

Search More on Google

Leave a Comment